The Real Khabar

दिखाएं हम,सिर्फ सच्ची ख़बरें

“गोरखपुर अस्पताल त्रासदी” का विमोचन राँची प्रेस क्लब , राँची , झारखंड में आई॰ए॰पी॰ प्रेसिडेंट डॉक्टर शिशु रोग विशेषज्ञ डाॅ. श्याम सिडाना , सय्यद शफीन अली और डॉक्टर कफील खान द्वारा हुआ

“गोरखपुर अस्पताल त्रासदी” का विमोचन राँची प्रेस क्लब , राँची , झारखंड में आई॰ए॰पी॰ प्रेसिडेंट डॉक्टर शिशु रोग विशेषज्ञ डाॅ. श्याम सिडाना , सय्यद शफीन अली और डॉक्टर कफील खान द्वारा हुआ

शिशु रोग विशेषज्ञ डाॅ. श्याम सिडाना ने कहा कि कोई भी डॉक्टर कभी भी किसी मरीज़ को मरते हुए नहीं देख सकता वो हर कोशिश करता है मरीज़ की जान बचा सके । उन्होंने कहा डॉक्टर समुदाय डॉक्टर कफ़ील के संघर्ष में हमेशा साथ खड़ा रहेगा ।

किताब के बारे में

10 अगस्त 2017 की शाम को उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में सरकारी बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज के नेहरू अस्पताल में लिक्विड ऑक्सीजन खत्म हो गई।

कथित तौर पर अगले दो दिनों में 80 से अधिक रोगियों – 63 बच्चों और 18 वयस्कों- ने अपनी जान गंवा दी। इसी दौरान, कॉलेज के बाल रोग विभाग में सबसे कनिष्ठ व्याख्याता, डॉ कफील खान, ने ऑक्सीजन सिलेंडर का इंतज़ाम करने, आपातकालीन उपचार करने और कर्मचारियों को प्रोत्साहित करने के लिए एड़ी चोटी का ज़ोर लगा दिया ताकि अधिक से अधिक मौतों को रोका जा सकता।

जब त्रासदी की खबर सुर्ख़ियों में आई तब खान को संकट की घड़ी में डटे रहने और स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली पर रोशनी डालने के लिए नायक कहा गया। लेकिन कुछ ही दिनों बाद, उन्होंने खुद को निलंबित पाया और उनके सहित नौ व्यक्तियों के खिलाफ भ्रष्टाचार और चिकित्सा लापरवाही सहित अन्य गंभीर आरोपों के लिए प्राथमिकी दर्ज की गई। इसके तुरंत बाद उन्हें सरसरी तौर पर जेल भेज दिया गया।

गोरखपुर अस्पताल त्रासदी कफील खान की अगस्त 2017 वाली उस भयानक रात की घटनाओं और उसके बाद हुई उथल-पुथल की आपबीती है – अनंत निलंबन, आठ महीने की लंबी कैद और न्याय के लिए एक अथक लड़ाई।

लेखक के बारे में

डॉ कफील खान का जन्म गोरखपुर, उत्तर प्रदेश, में हुआ था। कस्तूरबा मेडिकल कॉलेज, मणिपाल, कर्नाटक से बाल रोग में एमबीबीएस और एमडी पूरा करने के बाद उन्होंने गांगतोक में सिक्किम मणिपाल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज में सहायक प्रोफेसर के रूप में काम किया। तत्पश्चात वे एक व्याख्याता के रूप में बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज, गोरखपुर में शामिल हुए। अगस्त 2017 के चिकित्सा संकट के बाद बीआरडी मेडिकल कॉलेज के नेहरू अस्पताल से निलंबन और गोरखपुर जेल से रिहा होने के बाद से, खान अपनी टीम और आम नागरिकों की मदद के साथ, डॉ कफील खान मिशन स्माइल फाउंडेशन के बैनर तले काम कर रहे हैं। उन्होंने स्वास्थ्य सेवा कानून की मांग के लिए सभी के लिए स्वास्थ्य अभियान भी शुरू किया है और भारत के भीतरी इलाकों में मरीजों को स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के लिए डॉक्टर्स ऑन रोड नाम से एक नई पहल शुरू की है। जनवरी 2020 में, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में कथित रूप से भड़काऊ भाषण के लिए खान को फिर से गिरफ्तार किया गया और राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (NSA) के तहत आरोपित किया गया; बाद में उन्होंने सात महीने जेल में बिताए। 1 सितंबर 2020 को इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने NSA के तहत सभी आरोपों को हटा दिया। खान को 9 नवंबर 2021 को बीआरडी मेडिकल कॉलेज द्वारा सेवा से निकाल दिया गया, और अभी दिसंबर 2021 के दौरान उनके खिलाफ निचली अदालतों में मामले चल रहे हैं- भले ही राज्य और केंद्र सरकारों द्वारा की गई जांच में उनके खिलाफ चिकित्सा लापरवाही या भ्रष्टाचार का कोई सबूत नहीं मिला है।

THE REAL KHABAR