The Real Khabar

दिखाएं हम,सिर्फ सच्ची ख़बरें

बच्चों की सुरक्षा के लिए सरकार संकल्पित: बन्ना गुप्ता

बच्चों की सुरक्षा के लिए सरकार संकल्पित: बन्ना गुप्ता

स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने सदर अस्पताल में 27 बेड के पीडियाट्रिक आईसीयू और 24 बेड का एचडीयू का उद्घाटन किया,इस मौके पर स्वास्थ्य मंत्री ने बन्ना गुप्ता ने उपलब्ध अन्य सुविधाओं का जायजा भी लिया उन्होंने बताया कि पीआइसीयू वार्ड खुलने से कोविड महामारी के संक्रमण से पीड़ित गंभीर बच्चों को वेंटिलेटर की सुविधा मिल पाएगी. 

वहीं स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि जानता को स्वास्थ्य के संबंध में किसी प्रकार की समस्या का सामना ना करना पड़े, इसके प्रति हम सभी अपने कर्तव्यों का निर्वाहन करने में जुटे हुए हैं. इस महामारी के समय में जनता की सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण है, सुरक्षा के संदर्भ में हरसंभव कदम उठाई जाएगी, बच्चों की सुरक्षा करना हमारी प्राथमिकता हैं।

मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा कि झारखंड सरकार का लक्ष्य है कि स्वास्थ्य सेवा में संसाधनों की बढ़ोतरी की जाए ताकि कोई भी मरीज चिकित्सा सुविधा के अभाव में दम न तोड़े. अमेरिका में जिस प्रकार कोरोना वायरस संक्रमण के दौरान डॉक्टरों के आपसी तालमेल में काम किया गया वैसा ही मॉडल यहां लागू करने का हम प्रयास कर रहे हैं.

वहीं प्रधान सचिव अरुण कुमार सिंह ने कहा कि तीसरी लहर की आशंका के बीच राज्य भर के अस्पताल में व्यवस्था बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है. इसी के साथ बच्चों को समय पर उचित इलाज मिल सके, इसे लेकर भी प्रयास किया जा रहा है. सभी संस्थानों में तैयारी की जा रही है. इसके अलावा ऑक्सीजन की कमी ना हो इसके लिए 69 ऑक्सीजन प्लांट भी लगवाए जा रहे हैं.

बच्चों की सुरक्षा के लिए सरकार संकल्पित: बन्ना गुप्ता

51 ICU बेड्स, 40 नार्मल बेड जनता को समर्पित

मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा कि तीसरी लहर की आशंका के चलते हर स्तर पर तैयारी की जा रही है. बच्चों को लेकर सुरक्षा कवच तैयार किया जा रहा है.बच्चों के लिए खास कोविड अस्पताल तैयार किया गया है. इसमें 27 बेड का पीडियाट्रिक आईसीयू और 24 बेड का एचडीयू है.  इसमें वेंटिलेटर की भी व्यवस्था की गई है. इसके साथ ही 41 नार्मल बेड्स भी हैं.

गंभीर अवस्था के बच्चों का इलाज हो सकेगा

मंत्री बन्ना गुप्ता ने बताया कि अस्पताल में गंभीर अवस्था के बच्चों का इलाज हो सकेगा. उन्हें रिम्स रेफर करने की जरूरत नहीं पड़ेगी. अब तक अस्पताल में आने वाले मरीजों को वापस कर दिया जाता था. सिर्फ ओपीडी और इंडोर में बच्चों को भर्ती किया जाता था, तबीयत ज्यादा खराब होने पर रेफर किया जाता था. आइसीयू में अत्याधुनिक उपकरणों की सुविधा है.

इस अवसर पर अवर मुख्य सचिव श्री अरुण कुमार सिंह, सिविल सर्जन डॉ विनोद कुमार समेत राउंड टेबल संस्था और 41 ऐसर क्लब ऑफ इंडिया के मनप्रीत सिंह, अनिरुद्ध बुधिया, अनीश सर्राफ, शुभम साबू, अनुराग मोदी, सिद्धार्थ चौधरी उपस्थित रहे।

THE REAL KHABAR