Thursday, April 25, 2024
spot_img
Homeझारखंडसुदेश महतो ने कहा - अपनी माटी, भाषा और संस्कृति को बचाने...

सुदेश महतो ने कहा – अपनी माटी, भाषा और संस्कृति को बचाने के लिए होना होगा एकजुट

रांची। भगवान बिरसा की प्रेरणा से हम संघर्ष के रास्ते पर चलते रहेंगे। धरती आबा ने हमें शोषण के खिलाफ लड़ने की ताकत दी। आज हम आज़ाद भारत में सांस ले रहें, झारखंड अलग राज्य का भी निर्माण हो गया लेकिन व्यवस्था नहीं बदली। एक लंबी लड़ाई लड़कर अलग राज्य का निर्माण हुआ लेकिन हमें स्वशासन नहीं मिला। बिरसा मुंडा के अबुआ दिशुम, अबुआ राज के सपनों को साकार करने के लिए आज एक बार फिर से एक नए उलगुलान की जरुरत है। हमें अपनी माटी, भाषा और संस्कृति को बचाने के लिए एकजुट होना होगा।

सशक्त, शिक्षित एवं संगठित समाज के निर्माण हेतु धरती आबा बिरसा मुंडा के विचारों को उनके साहस, संघर्ष को आत्मसात करना होगा, यही उनके प्रति नेक और अटूट श्रद्धांजलि होगी। साम्राज्यवादी शक्तियों के खिलाफ युद्ध के उद्घोष के प्रतीक, शक्ति और साहस के परिचायक एवं झारखंड के वीर योद्धा भगवान बिरसा मुंडा के विचार युगों-युगों तक याद किए जायेंगे।

उक्त बातें झारखंड के पूर्व उपमुख्यमंत्री एवं आजसू पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष सुदेश महतो ने बिरसा मुंडा जी के शहादत दिवस पर कोकर, रांची स्थित समाधि स्थल पर माल्यार्पण करने के पश्चात कही।

समाधि स्थल पर मुख्य रूप से आजसू पार्टी के केंद्रीय मुख्य प्रवक्ता डॉ. देवशरण भगत, केंद्रीय उपाध्यक्ष हसन अंसारी, रांची जिलाध्यक्ष संजय महतो, जिला कार्यकारी अध्यक्ष भरत काशी साहू एवं हकीम अंसारी, मुजीबुल अंसारी, एतवा उरांव, राजाराम महतो, अखिल झारखंड छात्र संघ के प्रदेश अध्यक्ष गौतम सिंह, रांची महानगर महिला अध्यक्ष सीमा सिंह, सुनील यादव, चिंटू मिश्रा, प्रभा महतो, नेहा सिंह, आशीष कुमार, नीरज वर्मा, ओम वर्मा, चेतन प्रकाश, राहुल तिवारी, अंशुतोष कुमार, अभिषेक शुक्ला, शान कुजूर आदि मुख्य रुप से मौजूद थे।

The Real Khabar

RELATED ARTICLES

Most Popular