Sunday, February 25, 2024
spot_img
Homeधर्म-कर्मपर्व तयोहरOnam 2023: परंपरा और संस्कृति का समर्पण

Onam 2023: परंपरा और संस्कृति का समर्पण

2023 में आने वाले उत्सव Onam 2023 के करीब आते ही, भारत के केरल राज्य के लोग एकता, संस्कृति और परंपरा की भावना को खुले दिल से स्वागत करने की तैयारी में हैं। Onam 2023, एक पैदावार उत्सव, केरलियों के दिलों में बेहद महत्वपूर्ण है और इसे अतुलनीय उत्साह और भक्ति के साथ मनाया जाता है। इस साल, जब दुनिया विकसित होती जा रही है, ओणम की महत्वपूर्णता मजबूत है, जो हमें हमारी सांस्कृतिक धरोहर को संरक्षित करने की महत्वपूर्णता की याद दिलाती है।

ओणम की कहानी: राजा महाबली की दयालुता

ओणम की कथा में पुरानी कहानी है, जिसका मुख्य केंद्र दयालु राजा महाबली पर है। कथा के अनुसार, केरल के प्रिय शासक राजा महाबली के बारे में लोगों के दिलों में उनकी उदारता और दयालुता की कहानी है। उनकी शासनकाल की विशेषता थी, जिसमें समृद्धि, सद्भाव और उनके अनुयायियों के बीच संतोष था। हालांकि, उनकी शक्ति और लोकप्रियता की बढ़ती चिंताएँ देवताओं में उत्पन्न हुई, खासकर भगवान विष्णु में। उत्तरदायित्व निभाने के लिए, भगवान विष्णु ने वामन अवतार ग्रहण किया, जो कि एक बौद्ध ब्राह्मण के रूप में थे, ताकि महाबली की प्रभाव बढ़ने से रोक सकें।

वामन ने महाबली के पास जाकर तीन धन के भूखंड मांगे। राजा, जिन्हें अपनी विनम्रता के लिए जाना जाता था, सहमति दी। तब वामन ने विशाल आकार में बढ़ जाने का आदान प्रदान किया और तीन कदमों में सम्पूर्ण ब्रह्मांड को छू लिया। तीसरे कदम के लिए कोई स्थान बचा नहीं था, इसलिए महाबली ने अपने सिर को वामन के पैर के लिए प्रस्तुत किया। महाबली की निष्ठा के साथ प्रसन्न होकर, वामन ने उन्हें वरदान दिया कि वर्ष में एक बार उनके राज्य और लोगों की सेवा करने का मौका मिलेगा। इस वार्षिक आगमन को ओणम के रूप में मनाया जाता है।

महोत्सव की धूमधाम

ओणम के दस दिन के महोत्सव को “आठम से तिरुवोनम” या “दस दिनों की ओणम” के रूप में मनाया जाता है। इस उत्सव के दौरान विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम, धार्मिक अनुष्ठान और उत्सवों की आयोजन की जाती है। ओणम की सबसे पहचानी बात में गुलाबी चट्टान, जिसे “पूकलम” कहते हैं, शामिल है। फूलों के इंतिहाई और रंगीन डिज़ाइन घरों के आँगनों में बनाए जाते हैं, जो उत्सवों में प्राकृतिक सौंदर्य की एक छोटी झलक देते हैं।

केरल के पारंपरिक नृत्य रूप “तिरुवाथिर कलि” ओणम के दौरान मुख्य आकर्षण में होता है। पारंपरिक वस्त्रों में लिपटी महिलाएं हलके ताल के साथ म्यूजिक के ताल में धीरे-धीरे हिलती हैं। एक और उल्लेखनीय आकर्षण है “वल्लमकलि” या सांप नाव की दौड़, जहां अलंबरदार नावों की सीरी आपस में प्रतिस्पर्धा करती है, जो टीम काम और साथीता की दिखाती है।

ओणम सध्या: यादगार खाना

बिना समृद्धि के महोत्सव “ओणम सध्या” के बिना कोई ओणम महोत्सव पूरा नहीं होता। इस पारंपरिक भोज के आयोजन में एक विविधता है, जो मिठे और खरे दोनों प्रकार के व्यंजनों को शामिल करती है। आमतौर पर इस भोज में चावल, विभिन्न प्रकार की करी, अचार, चटनियाँ, पापड़, और विभिन्न स्वादिष्ट पायसम (मिठाई) शामिल होती हैं। ओणम सध्या न केवल रसोईघरी सुखद खाने की बात है, बल्कि यह ओणम के लिए खड़ा किया गया एकता और सद्भावना का प्रतीक है।

ओणम 2023: आधुनिकता के बीच परंपरा को गले लगाना

जबकि दुनिया आगे बढ़ने के बावजूद ओणम की महत्वपूर्णता यहाँ तक बनी रहती है कि हमें हमारी सांस्कृतिक धरोहर और परंपराओं को संरक्षित करने की आवश्यकता है। 2023 में, उत्सव की महत्वपूर्णिता इसलिए अत्यधिक है क्योंकि यह एकता और संज्ञान की भावना को प्रदान करता है एक हमेशा बदलते दुनिया में भी।

ओणम के एक अद्भुत पहलू है कि यह पीढ़ियों को अवतरण करता है। परिवार मिलकर उत्सव मनाने के लिए आते हैं, एक पीढ़ी से अगली पीढ़ी तक नृत्य और अनुष्ठान को पास करते हैं। दादी-नानी अपने ओणम के अनुभवों की कहानियाँ साझा करते हैं, जो अपने पोतों को उनकी जड़ों की गहरी समझ प्रदान करते हैं। यह पीढ़ियों के बीच का आपसी विनियमन है और परिवार के बंधनों को मजबूती देता है।

हाल के वर्षों में, प्रौद्योगिकी ने ओणम के उत्सवों को ग्लोबल मलयाली समुदाय के लिए अधिक पहुँचने में भूमिका निभाई है। फेसबुक, इंस्टाग्राम, और व्हाट्सएप जैसे सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म द्वारा, दूरस्थ क्षेत्रों में बिछड़े परिवार और दोस्त ओणम की खुशियों को साझा कर सकते हैं। यह डिजिटल संवादना सुनिश्चित करती है कि ओणम की भावना दुनियाभर के केरलियों तक पहुँचती है, जो दूर भी हों, एकता और समुदाय की भावना को बनाए रखने में मदद करती है।

हालांकि, आधुनिकीकरण और उत्सवों की डिजिटलीकरण के बीच, हमें याद रखना आवश्यक है कि ओणम के प्रतिष्ठान गुणों का – विनम्रता, दयालुता, और देने की भावना का – सबल अधार बनना चाहिए। ये गुण सदैव समय के साथ बरसते हैं और चाहे वो जैसा भी हो उन्हें हर ओणम महोत्सव के दिल में होना चाहिए।

इसके अलावा, ओणम हमें हमारे पर्यावरण की सुरक्षा की आवश्यकता की याद दिलाने का एक शक्तिशाली तरीका प्रदान करता है। प्राकृतिक फूलों से बनी गुलाबी चट्टान “पूकलम” के रूप में प्रस्तुत होती है, जिससे हमें प्राकृतिक दुनिया की सुंदरता की प्राशंसा करने की महत्वपूर्णता का अनुभव होता है। यह हमें प्राकृतिक दुनिया की खूबसूरती की प्रशंसा करने के लिए प्रोत्साहित करता है और उसकी संरक्षण की दिशा में प्रेरित करता है। पर्यावरणीय चिंताओं की युग में, ओणम की पारिस्थितिकी उत्सवों ने सुस्ती जीवन की दृष्टिकोण को स्थायी आदर्श के रूप में निर्धारित किया है।

ओणम 2023 एक अद्वितीय मौका भी प्रदान करता है कि केरल के लोगों की संवर्धनशीलता और मज़बूती पर विचार किया जाए। हाल के वर्षों में, केरल ने कई चुनौतियों का सामना किया है, जैसे कि प्राकृतिक आपदाएं और वैश्विक महामारी। हालांकि, एकता की भावना और एक दूसरे की मदद करने की तैयारी की आत्मशक्ति हमेशा प्रमुख रही है। ओणम के रूप में यह केरलियों की सहनशीलता की प्रमाणिक है, जो अध्यात्म से निपटने में अड़भुत संघर्ष के साथ मुकाबला किया है।

निष्कर्ष में, ओणम 2023 सिर्फ एक उत्सव नहीं है; यह संस्कृति, परंपरा, और हमें एक साथ बांधने वाले शाश्वत मूल्यों का उत्सव है। जब हम इस शुभ अवसर को मनाने के लिए एक साथ आते हैं, तो हमें राजा महाबली की कथा और उनकी दी गई सिखों – विनम्रता, दयालुता, और हमारी जड़ों से जुड़े रहने की महत्वपूर्णता – को याद रखने की आवश्यकता है। एक दुनिया जो अक्सर तेजी से बदलती है, ओणम हमें थामने, सोचने, और हमें हमारा वास्तविक स्वरूप समझने की याद दिलाता है। ओणम की शुभकामनाएँ!

THE REAL KHABAR

RELATED ARTICLES

Most Popular